Sunday , November , 27 , 2022

सेहत के लिए वरदान है 'सलाद पत्ता', जानें इसके फायदे और हजारों साल पुराना इतिहास

सेहत के लिए वरदान है 'सलाद पत्ता', जानें इसके फायदे और हजारों साल पुराना इतिहास
सदियों से अच्छी सेहत के लिए सलाद खाने का चलन, चला आ रहा हैं। भारत में सलाद खीरे, गाजर, टमाटर मूली और पत्ता गोभी से बनाया गया मिश्रण को ही सलाद कहा जाता है। जिसे आप नमक-मसाले डालकर कच्चा खा सके। पर आपको बतादें कि सिर्फ सलाद का पत्ता (Lettuce) एक ऐसा पौधा होता है, जिसमें सलाद के अभी गुण मौजूद होते हैं।  यह आपकी भूख तो खोलते ही है, इसके साथ ही इसके सेवन करने से नींद की समस्या भी दूर होती है। सलाद का पत्ता पौष्टिकता से भरपूर होता है। 

वहीं इसमें मौजूद विटामिन्स और मिनरल्स बॉडी के लिए गुणकारी होते हैं। यह पौधा हजारों साल पुराना है, पर आज कल की लाइफ स्टाइल के चलते पाचन समस्याओं के कारण इसका उपयोग काफी ज्यादा बढ़ गया है। जंक फूड से लेकर बर्गर, सैंडविच आदि में इसका खूब इस्तेमाल किया जा रहा है। 

सलाद पत्ते का चलन
आज के समय में हर कोई सलाद के पत्ते के बारे में जानते है। इसके साथ ही इसका सेवन आहार के रूप में किया जाता हैं।  इसकी पत्ते की हजारों किस्में हैं, जिनमें खेती योग्य और जंगली भी शामिल हैं। वहीं  खाने के लिए इसकी चार किस्में ज्यादा जानी जाती है। इसके साथ ही जिसमें हल्के हरे रंग का कुरकुरा, संकरी एवं मोटी पत्तियों वाला ऑगस्टाना के साथ साथ गोभी जैसा दिखने वाला कैपिटाटा और चिकने और लंबे पत्तों वाला लॉन्गिफोलिया मौजूद होता है। वहीं अब यह पीले, सुनहरे, लाल और नीले पत्तों के रूप में भी मिलने लगा है।

 
बतादें कि, सालों से यह सलाद यूरोप और अमेरिका में खाया जा रहा था। पर 20वीं शताब्दी के अंत तक यह सलाद दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में भी तेजी से फैल गया। वहीं अब हाल यह हो गया है कि सलाद के साथ साथ  वेज-नॉनवेज बर्गर में भी इस्तमाल किया जाता है। सैंडविच में इसकी बारीक लेयर लगाई जाती है। तो इसके पत्ते को खास तरह की डिशेज के ऊपर चारों तरफ लगाकर भी दिया जाता है। बतादें कि, अमेरिका में आज भी सब्जियों के बाद सबसे ज्यादा सलाद पत्ता ही खाया जाता है।

 
 
 
कहां जाता है कि 6000 साल पहले सलाद पत्ता आया था। वहीं भारतीय अमेरिकी वनस्पति विज्ञानी सुषमा नैथानी ने मेडिटेरियन सेंटर से जुड़े देशों को सलाद पत्ते का उगाने का स्थान करार दिया है। इस लिस्ट में 21 देश शामिल हैं। अलजीरिया, ग्रीस, मिस्र, इजराइल, सीरिया, मोरक्को, ट्यूनिशिया आदि हैं। इसके साथ ही फूड हिस्टोरियन का कहना है कि, बेबोलोनिया में इसे तेल और सिरके के साथ भी खाया जाता था। वहीं  प्राचीन काल में बनी कलाकृतियों विशेषकर मकबरे की पेंटिंग्स में सलाद पत्ते के  विभिन्न किस्में दिखाई देती हैं। तो प्राचीन यूनानी और रोमनकाल में सलाद पत्ते की खेती भी की जा चुकी है। 

बतादें कि, प्राचिन काल में इसे नींद का प्रेरक भी माना जाता था। जिसे नींद की समस्या होती है वो इसका सेवन करता हैं।  यूनानी विद्वान और आधुनिक चिकित्सा के जनक हिप्पोक्रेट्स (ईसा पूर्व 460 शती) के लेखन में इस बात का जिक्र किया गया है।

जानकारी के लिए बतादें कि, अमेरिका में 1600 के दशक में सलाद पत्ते की खेती करने की शुरुआत हुई थी। इसके बाद धीरे धीरे आसपास के देशों में भी इसे इसकी खेती होने लगी। वहीं प्राचीन काल में यह भी माना जाता था कि, इस पत्ते के सेवन करने से सेक्स पावर भी बढ़ती है, पर इस बात पर कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। शुरू से ही सलाद पत्ते को औषधिय गुणों से भी भरपूर माना है। बतादें कि,  भारत में 19वीं शताब्दी में चीन के माध्यम से इसका प्रवेश होता था। वहीं अब देश में इसे खूब खाया जाता है। अब सलाद पत्ते का इतना ज्यादा चलन हो चुका है कि मल्टनेशलन फास्ट फूड चेन कंपनियों ने भी अपने मैन्यू में अलग से सलाद पत्ते की डिशेज में जोड़ लिया है।

सलाद पत्ते के फायदे
जिसे नींद की समस्या होती है वे सलाद का पत्ते कर सकते है। इसके सेवन करने से नींद अच्छी आती है। अमेरिका स्थित टेक्सास के एएंडएम विश्वविद्यालय (Texas A&M University) ने एक रिर्पोट में जानकारी देते हुए बताया कि,  सलाद पत्ते में मस्तिष्क में मौजूद अवसादग्रस्त रसायनों को अलग करने के गुण मौजूद होते हैं, जिससे चिंता कम होती है, बॉडी शांत होता है, जिसकी वजह से नींद अच्छी आती है।   जानी-मानी फूड एक्सपर्ट और न्यूट्रिशियन कंसलटेंट नीलांजना सिंह की माने तो, सलाद पत्ते में फाइलोक्विनोन भी मौजूद होता है। जो कि हड्डी को मजबूत करने के साथ साथ दिल की भी रक्षा करता है।
 

सलाद पत्ते में पाए जाने वाले विटामिन आंखों के लिए काफी फायदेमंद साबित होते है। इसके साथ ही बॉडी  की प्रतिरक्षा को भी बढ़ाने का काम करते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी की समुचित मात्रा आपकी बॉडी को संक्रमण से बचाती हैं। सलाद पत्ते में आयरन की मात्रा अच्छी खासी पाई जाती है जो हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में मदद करते है। इसके साथ ही रक्त कोशिकाओं में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन को भी पहुंचाता है। 
 
यह आपकी पाचन तंत्र की समस्या को भी दूर करने का काम करता है। पर यह जरुरी हैं की आप इसे ताजा-ताजा ही खाएं। सलाद के पत्ते का सेवन मुंहासों को ठीक करने के लिए भी किया जाता है। इसके साथ ही आप इसका इस्तेमाल स्किन की समस्याओं से दूर करने के लिए भी कर सकते है। क्योंकि इसमें विटामिन से भरपूर मात्रा होती हैं। लेटस कोशिका शक्ति को बढ़ाकर स्किन को पुनर्जीवित करता हैं।

Comments

Add Comment