Monday , March , 27 , 2023

जो रामचरितमानस नहीं समझ पाए, उन्हें समझाना मुश्किल : मंत्री गोपाल भार्गव

जो रामचरितमानस नहीं समझ पाए, उन्हें समझाना मुश्किल : मंत्री गोपाल भार्गव

सागर। जिले के रहली विधानसभा के छुल्ला ग्राम के सिद्ध क्षेत्र मां हनुमंता देवी मंदिर में सिया भवानी हिंदू पंचांग के विमोचन कार्यक्रम में पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि "जो लोग रामचरितमानस को नहीं समझा पाए उनको समझाना मुश्किल है, गोस्वामी तुलसीदास ने इतनी सरल और सुवाच्य भाषा में रामचरितमानस को लिखा है, फिर भी कोई उसको ना समझ पाए है, तो यह दुर्भाग्य है।" गौरतलब है कि रामचरितमानस को लेकर जमकर बयानबाजी हो रही है और कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं। मंत्री गोपाल भार्गव ने रामचरित्र मानस को लेकर हो रही बयानबाजी पर कहा कि "रामकिंकर महाराज रामचरितमानस की बहुत अच्छी व्याख्या करते थे, इन लोगों को वह भी नहीं समझा पाएंगे।"


रामचरितमानस पर बयानबाजी दुर्भाग्यपूर्ण

दरअसल पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव रहली विधानसभा क्षेत्र के सिद्ध स्थान हनुमन्ता माता परिसर में हिन्दू पंचांग के विमोचन कार्यक्रम में पहुचे थे, जहां मौजूद सर्व ब्राह्मण समाज को उन्होंने संबोधित किया और सनातन धर्म की महिमा का वर्णन किया। उन्होंने रामचरितमानस को लेकर हो रही बयानबाजी को लेकर अपने संबोधन में कहा कि रामचरितमानस को लेकर जो बयानबाजी हो रही है वह लोगों के अल्प ज्ञान के कारण हो रही है। उन्होंने कहा कि "जो लोग रामचरितमानस को नहीं समझ पाए, उन्हें समझाना मुश्किल है। गोस्वामी तुलसीदास ने इतनी सरल और सुवाच्य भाषा में रामचरितमानस लिखा है कि शायद ही दुनिया का कोई धर्म ग्रंथ इतनी सरल और सुवाच्य भाषा में आज तक के इतिहास में लिखा गया होगा, तब भी कोई नहीं समझ पाए तो यह दुर्भाग्य है। रामचरितमानस का एक-एक शब्द इतना व्यापक है, उसका अर्थ इतना व्यापक है। रामकिंकर जी महाराज बहुत बड़े मानस मर्मज्ञ थे, वह रामचरितमानस के 1 या 2 शब्दों पर भी महीनों भाषण दे देते थे, महीनों व्याख्यान देते सकते थे। रामचरितमानस का आज तक कोई इतना बड़ा प्रकांड पंडित नहीं हुआ है, मुझे लगता है कि ऐसे लोगों को रामकिंकर महाराज भी नहीं समझा पाएंगे, तो मैं क्या समझाऊं।"

Sanju Suryawanshi

Sanju Suryawanshi

sanju@newsworld.com

Comments

Add Comment